Woh Kya Hai Na Main Aurat Hoon by Priya Sharma


Woh Kya Hai Na Main Aurat Hoon,
Zara Jaldi Behak Jati Hoon.

मुझे बचने की जरुरत है और तुम्हे मुझे बचाने की,
मुझे सावधान रहने की जरुरत है और तुम्हे मुझे सावधान रखने की.
मुझे तहज़ीब और तमीज सीखने की जरुरत है,
और तुम्हे मुझे तमीज सिखाने की.
वो क्या है ना मैं औरत हूँ, जरा जल्दी बहक जाती हूँ.

पहली बार तब बहकी जब पैदा ही हुई थी.
डॉक्टर ने माँ के हाथ में थमाते हुए कहा,
"लड़की हुई है"
बदजात के नन्हे से दिमाग ने सोचा,
डॉक्टर ने "मुबारक हो लड़की हुई है" क्यों नहीं कहा?
पर तब तुमने मुझे संभाला.
खानदान के चिराग को दहेज़ की जोड़ी हुई रकम बना डाला.
मेरी अहमियत को मेरी जिल्लत बना डाला.
तुमने मुझे संभाला.
वो क्या है ना मैं औरत हूँ, जरा जल्दी बहक जाती हूँ.

फिर मैंने बचपन में पैर रखा,
और तुमने मुझे मेरी पहली पिंक फ्रॉक लेकर दी.
तुमने मुझे तहज़ीब सिखाई और मैं तुम्हारी दिखाई राह पर चल पड़ी.
हाथ छुड़ाकर भागना चाहा तो मार पड़ी,
और इसी दौरान मैंने अपनी पहली लड़ाई लड़ी.
मेरी प्यारी बिटिया कहकर मुझे पास बुलाया.
मुझे सीने से लगाया, मेरा सीना दबाया.
चिल्लाना चाहा तो मुँह दबाया,
कुछ समझ नहीं आया और खून निकल आया.
मैंने तुम्हे बताना चाहा,
"खानदान की इज्जत के लिए चुप होजा" तुमने कहा.
शुक्रिया, तुमने मुझे दूसरी बार बहकने से बचाया.
वो क्या है ना मैं औरत हूँ, जरा जल्दी बहक जाती हूँ.

बाप रे, फिर मैंने लड़कपन में पैर रखा,
और ये "तुम कौन हो?" मुझे समझ आया.
तुम वही हो ना जिसके कारण मेरा रात का कर्फ्यू जल्दी कर दिया गया.
वही जिसने, अच्छे घर की लड़कियाँ रात में बाहर नहीं निकलती समझाया.
वही जिसने, आंखे नीची रखो समझाया.
वही जिसने, आवाज धीमी करो बताया.
टाँगे इकट्ठी करके बैठो ना, तुम्हें समझ में नहीं आया.

पितृसत्ता तुमसे मिलकर ख़ुशी हुई,
पर अब शायद तुम्हें ये जानकार ख़ुशी ना हो,
कि ये औरत तो बहक गयी थी.
क्योंकि अब इसकी आँखे तुम्हारे सम्मान में झुकती नहीं;
रोष में जलती है.
ये जुबान इस बार तो लगाम ही नहीं है,
कैंची की तरह चलती है.
इस छाती पर अब दुपट्टा नहीं, ये आज़ाद हो गयी.
माफ़ करना पितृसत्ता, तेरी पहरेदारी की मेहनत बर्बाद हो गयी.

पर पितृसत्ता तू कोशिश जारी रख,
और हर बहकी हुई औरत को उसके रास्ते पे लेकर .
क्योंकि अब उनका भी सिर तेरे सम्मान में झुकता नहीं,
स्वाभिमान में उठता है.
महाभारत को द्रौपदी का कारनामा बताने वाले,
तू ये तो देख कि एक वीरांगना की दहाड़ से,
कितने महारथियों का नसीब यूँ फुँकता है.
और जहाँ तक रही मेरी बात, मुझे संभाल लेना.
वो क्या है ना मैं औरत हूँ, जरा जल्दी बहक जाती हूँ.


Post a Comment

8 Comments

  1. The girl like you and poetry like this spoiling the girls and creating inferiority complex in them... Parents always teach what is good for their children... Your poetry talent is good try to make some positive poems instead

    ReplyDelete
    Replies
    1. Vo hum jasi ladkiyo ke future barbaad nhi kr rhi balki huma awaaz uthana sikha rhi hai huma himmat de ehi hai or hai jb beti ka sath rape ho or maa basp samaj ka soch kr chup rahna ko kahe tb maa baap glt hai mai khud ek ldki hu jab asa poetry sunti hu tho confidence ata hai phir ap log jasa comments krta hai jo bohot hi faltu hota sun kr lgta hsi ek ldki kitta bhi chella la insaaf ka liye ap jasa log awwaz daba hi denga thanks anyway ap log awaaz dabaiya hum sb mai or confidence ay ga or phir koi ldki ki awaaz utha ki dekhta hai kitio ka awaaz daabata hai ap log

      Delete
  2. Dimaag aurat ki bhi diya hai Bhagwan ne.... The word "jillat" is your mind nonsense and is not created by anyone. Ek Khandan ka chiraag aur dusre Khandan ki Lakshmi bhi aurat ki hi kahaa Jaya hai..but it depends on you whether you want to be a "jillat" or "chiraag" for 2 families... being respectful to parents and other increase your value and has no relation with "Swabhiman" .Swabhiman to tum kuchal Rahi ho of your parents of doing a " tandav" now a days in society....

    ReplyDelete
    Replies
    1. Excuse me apko kasa patah ki vo apna maa baap ka nam dubaa rhi hai apna baato ko saabit krna ka liya plz kuch bhi mt boliye or hai tandav ap jasa log krta hai or shi kaha bahu laxmi tho hoti apna sath dahaaj jo lati hai or agr isa laxmi kaga jata hai tho sorry kisi bhi ldki ko ye tag nhi chahiya ap ek ladki ka bara mai jb baat kra tho zara soch smjh kr bola ap us pr apa koi hak nhi and by the way bilkul shi kaha usna jb beti ke sath rape ho or agr maa baap kaha chup raho tho maa baao glt hai

      Delete
  3. Taangee failaa ke ghoomti raho to mohalle mein...jab purush ke saree kaam aur jimmedari tumhe de di jayegi to wo bhi Barsaat nahi hota tumse

    ReplyDelete
    Replies
    1. Taange faila kr ghooe ya samat kr pair uska marzi uski or hai purush ka sara kam aurat bhi kr skti hai dono barabri or hai kasi mentality hai apki

      Delete
  4. Kabhi Desh ke liye border pe jaake laddo madam...tab karne ke liye purush Ko aage kardo... And you want some good life with partner having lot of money and who can afford foreign trips every year.... Ye magarmach ke aansuu dukha ke aurat purush Ko thagti Rahi hai and apaas mein ladati Rahi hai... 2 bhaiyon aur Parivar Ko todti Rahi hai....

    ReplyDelete
    Replies
    1. Vo desh ka border pr ja kr desh ki rakshaa bhala na kr rhi ho pr desh ka andar rah kr ap jasa kuch logo ki soch sa lad rhi hai poetry reality pr based hai smjh nhi ay ho tho dubaara suniyaga pr asa faltu ka comments mt daleyaga vo jo apna soch ko shi shabdo mai bayan kre usa ap sa kai guna desh ka sipahiyo ki fikr hai

      Delete