Breaking

Ye Kuch Batein Hai Jo Bekar Hai by Jai Ojha


Aaj Mera Dil Jakhmi Hai, Lekin Sanson Mei Magruri Hai,
Ye kuch Baatein Hai Jo Bekar Hai Lekin Tujhe Batani Jaruri Hai.

आज मेरा दिल जख्मी हैलेकिन साँसों मे मगरूरी है,
बात उस दिन की हो रही है जिस दिन वो आशिक,
जो पूरी तरह Move On हो गया है Break up से , उसी बारे में बात है..
तो आज मेरा दिल जख्मी हैलेकिन साँसों मे मगरूरी है,
आज मेरा दिल जख्मी हैलेकिन साँसों मे मगरूरी है,
ये कुछ बातें हैं जो बेकार हैलेकिन तुझे बतानी जरूरी है..

आज तूने नहीं पूछा हाल मेरा,
आज तूने नहीं पूछा हाल मेरालेकिन तबियत मेरी अच्छी है..
मुस्कान जरा सी झूठी हैलेकिन ये बाते बिल्कुल सच्ची है..
आज तूने नहीं पूछाफिर भी मैनें खाना खाया है..
आज तूने नहीं पूछा फिर भी मैनें खाना खाया है..
आज सुबह तेरा Call नहीं थामेरी मां ने मुझे जगाया है..
आज सुबह तेरा Call नहीं था , मेरी मां ने मुझे जगाया है..
शुक्रिया तेरा कि आज राजा बेटा हुआ हूं फिर से,
इन Babu, Janu , Sona से दूरी है..
ये कुछ बातें हैं जो बेकार हैलेकिन तुझे बतानी जरूरी है..

आज बड़े दिनो बाद Whatsapp पे DP खुद की लगाई है..
क्या बताऊँ तेरी सारी Photos Delete करकेक्या गज़ब की नींद आई है..
आज तेरे होने या  होने का कोई असर नहीं होता है,
आज जा तू चौबीस घन्टें ऑनलाइन रह लेमुझे कोई फर्क नहीं पड़ता है..
अरे बहुत गुजारिश कर ली तुझसे,
अरे बहुत गुजारिश कर ली तुझसेअब सख्ती अपनी भी पूरी है..
ये कुछ बाते हैं जो बेकार हैलेकिन तुझे बतानी जरूरी है..

कि आज तुझसे नहीं मिला मैंमगर मुलाकात खुद से हो गई है..
कि आज तुझसे नहीं मिला मैं मगर मुलाकात खुद से हो गई है..
तेरे बिना जी नहीं सकताये गलतफहमी दूर हो गई हैं..
तेरे बिना जी नहीं सकताये गलतफहमी दूर हो गई हैं..
आज उन पुराने Conversations को मैंने फिर से नहीं टटोला है..
आज उन पुराने Conversations को , मैंने फिर से नहीं टटोला है..
अब तू ही पढ़ उनकोकि फक्र होगा तुझे कि तूने कितनी खूबसूरती से झूठ बोला है..
अरे आज तन्हा हूं तो क्या हुआइस तन्हाई से यारी है..
ये कुछ बातें हैं जो बेकार हैलेकिन तुझे बतानी जरूरी है..

हां Phone से ले के ज़हन तक हर जगह से तुझे निकाला है..
हां Phone से लेके ज़हन तक हर जगह से तुझे निकाला है..
रिहा सा हो गया हूं जब से तेरा Number Delete कर डाला है,
मैं डरता था जिस कल सेउसे आंखों में आंखे डाल देख आया हूं..
मैं डरता था जिस कल सेउसे आंखों में आंखे डाल देख आया हूं..
तेरे लिए उन खतों को उन फूलो को खुशबू समेत फेंक आया हूं..
आज तो जैसे जीत गया हूं,
वरना बता कि सच्चे आशिक नेकभी बाजी हारी है..
ये कुछ बातें हैं जो बेकार हैलेकिन तुझे बतानी जरूरी है..

आज तेरे घर के आगे से नहीं निकलालेकिन बहुत दूर तक जा पहुंचा हूं..
फिरता था कभी गली-गलीअब आसमान में उड़ता हूं..
फिरता था कभी गली-गली अब आसमान में उड़ता हूं..
मायूसी थी छायी जहां पर आज वहां मुस्कान फिर से वहां पर लौट कर आयी है.
मायूसी थी छायी जहां पर आज वहां मुस्कान फिर से वहां पर लौट कर आयी है.
देख पलके भी कितनी खुश हैंमुद्दतों बाद गालों से जो टकराई हैं,
देख आज मैं अकेला हूं और पूरा हूंतू किसी के साथ होकर भी अधूरी हैं..
ये कुछ बातें हैं जो बेकार हैलेकिन तुझे बतानी जरूरी है..

आज उठा हूं बिस्तर से औरआईने में शक् खुद की देख डाली है..
बाल बिखरें हैं दाढ़ी बड़ी है और आंखे जरा सी काली हैं,
आज उठा हूं बिस्तर से औरआईने में शक् खुद की देख डाली है..
बाल बिखरें हैं दाढ़ी बड़ी है और आंखे जरा सी काली हैं..
आज तो जैसे आंखों का पानीखत् सा हो गया है..
टूट कर जो जुड़ा है दिलनया जन् सा हो गया है..
आज तो जैसे आंखों का पानीखत् सा हो गया है..
टूट कर जो जुड़ा है दिल नया जन् सा हो गया है..
आज सूफियत हैं रुख पे आंखों में अजब सी नूरी हैं..
ये कुछ बातें हैं जो बेकार हैलेकिन तुझे बतानी जरूरी है।



No comments:

Powered by Blogger.