Aakhiri Mohabbat By Goonj Chand

the digital shayar

Aakhiri Mohabbat By Goonj Chand

तेरी पहली महोब्बत ना होने का मलाल नहीं है..
मैं तो तेरी आखिरी महोब्बत होना चाहती हूँ..

अकसर लोग कहते है पहला प्यार  बहोत अच्छा  होता है..
पर मेरी नजर मै पहला प्यार कच्चा और आखिरी प्यार ही सच्चा होता है…
जो टूटने से भी ना टूटे तेरी जिंदगी का ऐसा मांजा बनाना चाहती हूँ…
पहली महोब्बत ना होने का मलाल नहीं है…
मैं तो तेरी आखिरी महोब्बत होना चाहती हूँ…

प्यार वो नहीं जो दो दिन के कसमे वादे करके तीसरे दिन ही टूट जाता है..
प्यार तो वो है जो सात फेरो मैं बंध कर माँग  के सिन्दूर तक साथ जाता हैं…
मैं भी तेरी जिंदगी मैं तेरी अर्धांगिनी  बनकर आना चाहती हूँ….
पहली महोब्बत ना होने का मलाल नहीं है..
मैं तो तेरी आखिरी महोब्बत होना चाहती हूँ..

पहली महोब्बत को मैंने अकसर बिस्तर पर दम तोड़ते देखा है.. 
और आखिरी महोब्बत मै मैंने मुर्दे को ज़िंदा होते देखा है…
राधा और मीरा सा प्यार नहीं  मैं तो तेरी रुकमणी होना चाहती हूँ…
पहली महोब्बत ना होने का मलाल नहीं है…
मैं तो तेरी आखिरी महोब्बत होना चाहती हूँ…

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ना ना बेटा, तुमसे ना हो पायेगा ये कॉपी