Chal Aaj Main Tujhe Thukrati Hoon by Pooja Sonawale


Main Kya Hoon Aaj Main Tujhe Batati Hoon,
Tu Kya Mujhe Thukrayega, Chal Aaj Main Tujhe Thukrati Hoon..

मैं क्या हूँ ये आज मैं तुझे बताती हूँ..
तू क्या मुझे ठुकराएगा, चल आज मैं तुझे ठुकराती हूँ..
बहुत जी लिए ईमानदारी वाली ज़िन्दगी,
चल आज मैं तेरी तरह पत्थर दिल होकर देखती हूँ..
तू क्या मुझे ठुकराएगा, चल आज मैं तुझे ठुकराती हूँ..
तेरे हरेक झूठ का नकाब आज मैं उतारती हूँ,
और सुन आज भरी महफ़िल में मैं तुझे बेवफा कहकर पुकारती हूँ..
तू क्या मुझे ठुकराएगा, चल आज मैं तुझे ठुकराती हूँ..
बहुत सस्ती लगती है ना मेरी मोहब्बत तुझे,
तो चल आज मैं कुछ अमीरो वाला काम करती हूँ..
तू क्या मुझे ठुकराएगा, चल आज मैं तुझे ठुकराती हूँ..
तेरे चेहरे की रौनक का एक हसीं कारण थी ना मैं कभी,
तो चल आज तेरे दिल की तबाही की वजह भी मैं बन जाती हूँ..
तू क्या मुझे ठुकराएगा, चल आज मैं तुझे ठुकराती हूँ..
बहुत सवाल उठाये तूने मेरी मोहब्बत पे, पर मैंने कभी तुझे कुछ कहा नहीं..
शक के कटघरे में खड़ा किया तूने मेरी मोहब्बत को,
फिर भी मैंने तुझपे कोई सवाल उठाया नहीं..
पर सुन तेरी असली जगह कहाँ है ये मैं तुझे बताती हूँ..
तू क्या मुझे ठुकराएगा, चल आज मैं तुझे ठुकराती हूँ..
जो मोहब्बत मुझसे सीखी तूने, वो किसी और पे कुर्बान करने चला था तू..
ठोकर खाकर उससे फिर मेरे पास आने चला था तू..
पर आज धोखे का असली मतलब मैं तुझे समझाती हूँ..
तू क्या मुझे ठुकराएगा, चल आज मैं तुझे ठुकराती हूँ..
बड़े अरसो बाद मुलाकात होगी तुझसे ये वादा आज मैं तुझसे करती हूँ..
और इसी बहाने मेरी शादी का इनविटेशन कार्ड भी मैं तुझे खुद देने आती हूँ..
तू क्या मुझे ठुकराएगा, चल आज मैं तुझे ठुकराती हूँ..
बहुत शौक है ना तुझे लोगो के दिलो से खेलने का,
चल आज मैं तेरे दिल के साथ खेलती हूँ..
तू क्या मुझे ठुकराएगा, चल आज मैं तुझे ठुकराती हूँ..


Meri Kadar Tujhe Us Din Samajh Aayegi by Goonj Chand


Meri Kadar Tujhe Us Din Samajh Aayegi…
Jis Din Tere Jaisi Koi Tujhe Mil Jayegi..

मेरी कदर तुझे उस दिन समझ आएगी..
जिस दिन तेरे जैसी कोई तुझे मिल जाएगी..
जो होगी फ्री पूरा पूरा दिन पर फिर भी,
तुझे Busy होने का MSG चिपगायेगी..
जिस दिन तेरे जैसी कोई तुझे मिल जाएगी..
जायेगा जब भी तू कुछ वक़्त बिताने उसके साथ,
तब तुझे Fully Ignore कर वो अपना सारा टाइम अपने फ़ोन पर बिताएगी..
जिस दिन तेरे जैसी कोई तुझे मिल जाएगी..
भले ही 24 hours अपडेट रहेगी वो Whatsapp पर,
पर तेरे साथ अपनी DP कभी नहीं लगाएगी..
जिस दिन तेरे जैसी कोई तुझे मिल जाएगी..
कभी कभी कर भी लेगी प्यार भरी 2-4 बातें तुझसे,
पर तेरे बीमार होने पर वो सारी रात तेरे सिर के पास नहीं बिताएगी..
जिस दिन तेरे जैसी कोई तुझे मिल जाएगी..
ले आएगी बहार से तेरी पसंद का खाना भी कभी कभी,
पर रात के 2 बजे उठकर तेरे लिए आलू के पराठें नहीं बनाएगी..
जिस दिन तेरे जैसी कोई तुझे मिल जाएगी..
मिलवाएगी अपने दोस्तों से भी बेशक वो तुझे,
पर अपना Just Friend कहकर वो तुझे Introduce करवाएगी..
जिस दिन तेरे जैसी कोई तुझे मिल जाएगी..
मेरी कदर तुझे उस दिन समझ आएगी..
जिस दिन तेरे जैसी कोई तुझे मिल जाएगी..


Nafraton Ka Sandook by Goonj Chand


Bahut Madad Karta Hai Ye Nafraton Ka Sandook,
Jab Bhi Khulta Hai 2-4 Kavitayen De Hi Jata Hai..

बहुत मदद करता है ये नफरतों का संदूक,
जब भी खुलता है 2-4 कवितायेँ दे ही जाता है..
मैं तो बस अपना दर्द बयां करती हूँ,
उसी बहाने बहुतो का दिल बहल जाता है..
जब प्यार ना हो जिंदगी में तो नफरत भी दवा कर देती है,
कभी कभी नफरत भी अपनी कैद से कुछ अच्छे पल रिहा कर देती है..
कुछ पल के लिए ही सही इस दिल को कुछ सुकून तो मिल जाता है,
बहुत मदद करता है ये नफरतों का संदूक,
जब भी खुलता है 2-4 कवितायेँ दे ही जाता है..
नफरत का भी वैसे अपना मजा है इस ज़िन्दगी में,
प्यार से ही कौनसा सबका भला हुआ है इस ज़िन्दगी में..
और वैसे भी प्यार के बाद ही तो ये अपनी औकात दिखा पाता है..
बहुत मदद करता है ये नफरतों का संदूक,
जब भी खुलता है 2-4 कवितायेँ दे ही जाता है..
लोग कहते है कि आखिर क्यों इतनी नफरत भरी है मैंने अपने दिल में,
क्यों नहीं है जगह प्यार के लिए इस दिल में..
पर उन्हें ये कैसे बताऊँ कि इन्ही नफरतों में तो मुझे प्यार नजर आता है..
बहुत मदद करता है ये नफरतों का संदूक,
जब भी खुलता है 2-4 कवितायेँ दे ही जाता है..

Wo Aksar Meri Burai Karta Hai by Goonj Chand


Kuch Is Tarah Wo Rishton Ki Numaish Karta Hai..
Khud Ko Accha Dikhane Ke Liye Wo Akshar Meri Burai Karta Hai..

कुछ इस तरह वो रिश्तों की नुमाईश करता है..
खुद को अच्छा दिखाने के लिए वो अक्सर मेरी बुराई करता है..
पर जानता नहीं वो लोग सुबह शाम मेरा हाल पूछते है..
जिनके पास जा जाकर वो मुझसे बात करने की फरमाईश करता है..
खुद को अच्छा दिखाने के लिए वो अक्सर मेरी बुराई करता है..
कहता है मैंने तो टूटकर चाहा था उसे,
वो हर किसी को अपने बेगुनाह होने की गवाही देता है..
खुद को अच्छा दिखाने के लिए वो अक्सर मेरी बुराई करता है..
कोई समझाओ उसे कि गवाही के लिए किसी दूसरे की जरुरत पड़ती है..
वो तो अपने ही मुँह से अपनी बड़ाई करता है..
खुद को अच्छा दिखाने के लिए वो अक्सर मेरी बुराई करता है..
कहता है कि मैं Characterless थी, इसलिए उसने मुझे छोड़ दिया..
तो फिर क्यों आज मुझसे मिलने की वो खवाइश करता है..
खुद को अच्छा दिखाने के लिए वो अक्सर मेरी बुराई करता है..
अब क्या कहूं ये तो दस्तूर सा हो गया है इस दुनिया का..
कि हर बेवफा इंसान सच्चे प्यार की रुसवाई करता है..
शायद इसलिए वो भी मेरी बुराई करता है..
खुद को अच्छा दिखाने के लिए वो अक्सर मेरी बुराई करता है..


Jab Wo Mujhe Chahne Lagegi by Vihaan Goyal


Abke Kahani Ko Kuch Is Tarah se Mod Dunga Main..
Ki Jab Wo Mujhe Chahne Lagegi To Use Chod Dunga Main..

अबके कहानी को कुछ इस तरह मोड दूंगा मैं,
कि जब वो मुझे चाहने लगेगी, तो उसे छोड़ दूंगा मैं..
उसे बड़ा शौक है, लोगों के इमोशंस से खेलने का,
पता चलेगा जब उसका भी दिल तोड़ दूंगा मैं..
उसको बताऊंगा कि बेवफाई आखिर कहते किसको है,
जब उसी के सामने किसी और से रिश्ता जोड़ लूंगा मैं..
अबके कहानी को कुछ इस तरह मोड दूंगा मैं,
मुझे लगा था कि हमारा प्यार राधा कृष्ण के जैसा है..
कि कभी पनघट पे मिली तो तेरी कलाई मरोड़ दूंगा मैं..
पर तूने यूँ मेरे जज्बात के साथ खेल खेला है,
कि तू अब खुदा भी हो जाये तो सजदे करना छोड़ दूंगा मैं..
अबके कहानी को कुछ इस तरह मोड दूंगा मैं,
वो नूर गुलाबी आंखों का जिनसे हम धोखा खाये थे..
उनमे आंसू भरके सारे रंग निचोड़ दूंगा मैं..
जब वो मुझे चाहने लगेगी तो उसे छोड़ दूंगा मैं..
जो अबके भी तू मेरी बेटिंग देखने छत पर ना आयी,
तो छक्का मारकर तेरी खिड़की का शीशा तोड़ दूंगा मैं..
जब वो मुझे चाहने लगेगी तो उसे छोड़ दूंगा मैं..
मेरे दोस्त मुझे कहते है कि मेरा गुस्सा महज एक दिखावा है..
तू अभी भी वापस लौट आये तो सबकुछ छोड़ दूंगा मैं..
जो रहिमन धागा प्रेम का, तूने तोड़ दिया चटकाए..
उसे रंग गेरुवां धागे से, फिर से जोड़ दूंगा मैं..
अबके कहानी को कुछ इस तरह मोड दूंगा मैं,
कि जब वो मुझे चाहने लगेगी, तो उसे छोड़ दूंगा मैं..


Baap Ka Maal Samjha Hai Kya?