Mere Desh Me Bhi Aisa Ek Kanoon Bane by Amit Auumkaar


Kaash Ki Mere Desh Me Bhi Aisa Ek kanoon Bane..
Ki Balatkar Karne Wale Ko Maut Se bhi Badtar Saza Mile..

काश कि मेरे देश में भी ऐसा एक कानून बने,
कि बलात्कार करने वाले को मौत से भी बदतर सजा मिले..
घसीट घसीटकर सड़कों पे, उसे पीट पीटकर मारे हम,
उसकी आखिरी साँस तक को खींच लेने का जनता को फरमान मिले..
काश कि मेरे देश में भी ऐसा एक कानून बने,
कि बलात्कार करने वाले को मौत से भी बदतर सजा मिले..
सिर्फ एक घर का दर्द नहीं है है, पुरे देश का है ये हिस्सा..
मन करता है चीर दे उनको, इतना भरा है हममें गुस्सा..
टुकड़े टुकड़े करके उनके, जिन्दा उन्हें जलाके हम,
सौ सौ मौतें मारे उनको तब जाके सुकून मिले
काश कि मेरे देश में भी ऐसा एक कानून बने,
कि बलात्कार करने वाले को मौत से भी बदतर सजा मिले..
अरे नहीं चाहिए मंदिर, मस्जिद, गुरूद्वारे, और चर्च हमें..
अरे नहीं चाहिए स्पेस क्राफ्ट और टेक्नोलॉजी पर खर्च हमें..
सबसे बड़ी जरूरत है ये, सबसे पहली है ये मांग,
यही है फैसले की घडी, जुर्म का है आपसी मलाग..
सोचके भी जिसके बारे में पापी की रूह काँप उठे,
अभी जरूरत है ऐसे कानून की, ऐसा एक कानून बने..
काश कि मेरे देश में भी ऐसा एक कानून बने,
कि बलात्कार करने वाले को मौत से भी बदतर सजा मिले..
अरे कोई एक ऐसा दिन नहीं जाता, जब बलात्कार की न्यूज़ नहीं..
अरे क्या करोगे ऐसे समाज का, जहाँ बेटी भी महफूज़ नहीं..
इतना भी नहीं सहना हमको कि पानी अपना खून बने,
हर अपराधी थर थर कांपे, ऐसा एक कानून बने..
काश कि मेरे देश में भी ऐसा एक कानून बने,
कि बलात्कार करने वाले को मौत से भी बदतर सजा मिले..
मैं भी बोलूं, तुम भी बोलो, जब तक वो ना बात सुने..
बार बार बोलो, तब तक बोलो, जब तक ये ना बात बने..
मत तो दौलत बेटी को, मत दो उसको बड़ी वसीयत,
ऐसा समाज दो उसको जहाँ किसी की गन्दी ना हो इतनी नीयत..
ऐसी सजा मिले अपराधी को कि धड़कने उसकी काँप उठे..
तभी रुकेंगे ये बलात्कार जब ऐसा एक कानून बने..
काश कि मेरे देश में भी ऐसा एक कानून बने,
कि बलात्कार करने वाले को मौत से भी बदतर सजा मिले..

Ab Khud Rape Karwa Kar Dekho by Vihaan Goyal


Maan Lo Tum Aurat Ho, Ab Khud Rape Karwa Kar Dekho

तो तुम हो, जिसने रेप किया..
अब तो तुम मर्द बन गए होंगे ना,
चलो मान लेते है थोड़ी देर के लिए तुम वही औरत हो,
जिस औरत का तुमने रेप किया है..
अब किसी बेबस औरत की तरह कुत्तो से,
अपना जिस्म नोंचवाकर देखो..
और कैसा लगता है कभी खुद रेप करवाकर देखो..
तुम्हारी शर्ट के ऊपर के दो बटनो के बीच में से मैं अपनी आंखे सेंकु..
और इंतज़ार करूँ कि कब नीचे के दो बटन खुलेंगे..
तुम घूम जाओ और तुम्हारे टाइट टॉप में से झलक रही ब्रा की शेप को देखकर मैं अंदाजा लगाऊं,
कि अब इन्हे उतारना कैसे है?
अब तुम खुद को मेरी गन्दी नजरो से छुपाकर देखो..
और कैसा लगता है कभी खुद रेप करवाकर देखो..
तुम्हारी स्कूटी किसी सिगनल पर आकर रुके,
और गलती से तुम्हारी टाइट जींस थोड़ी सी नीचे हो जाये,
और मैं अंदाजा लगाऊं,
कि तुम्हारे अंडरवियर का कलर क्या होगा?
और तुम्हारी फिगर को फिगरआउट करूँ,
और अचानक से तुम्हारी नजर मेरी नजर से मिल जाये,
अब तुम अपनी स्कूटी की स्पीड को बढाकर देखो..
और कैसा लगता है कभी खुद रेप करवाकर देखो..
तुम किसी नाईट पार्टी में आओ, शॉर्ट्स पहनकर..
और मैं तुम्हारे सेक्सी सेक्सी लेग्स को देखकर अपने अंदर के वहशी दरिंदे को जगाऊँ..
और घात लगाकर बैठूँ कि तुमपर दारू का नशा पूरी तरह चढ़ेगा..
सारे दोस्त अपने घर चले जायेंगे और मजबूरन,
तुम मुझसे खुद को घर छोड़ने के लिए कहो..
अब इसके बाद तुम खुद को मुझसे बचाकर देखो..
और कैसा लगता है कभी खुद रेप करवाकर देखो..
मैं तुम्हारा मुँह दबाकर किसी सुनसान जगह पर ले जाऊं,
तुम चीखती रहो, चिल्लाती रहो, मुझसे दया की भीख मांगती रहो..
मैं तुम्हारी एक ना सुनु और जानवरो की तरह तुम्हारे सारे कपडे फाड़ दूँ..
और टूट पडु तुमपर किसी वहशी दरिंदे की तरह..
और बुझा दूँ अपने अंदर की प्यास..
और निर्भया की तरह कभी अपने खून से नहलाकर देखो..
और कैसा लगता है कभी खुद रेप करवाकर देखो..
तुम FIR कराने जाओ, पुलिस को  अपने रेप का विवरण बताओ..
लोग तुम्हारे जस्टिस के लिए कैंडल मार्च निकाले,
ओप्पोसिशन सरकार पर आरोप लगाए..
मीडिया तुम्हारी आबरू पर TRP बढ़ाये..
तुम्हारा मंगेतर सगाई की अंगूठी लौटाए,
तुम्हारे माँ बाप किसी को मुँह दिखाने लायक ना रह जाए..
अब इसके बाद तुम किसी एक इंसान से भी नजरे मिलाकर देखो..
और कैसा लगता है कभी खुद रेप करवाकर देखो..
क्या हुआ, माना ना, महसूस हुआ ना कि सबकुछ खत्म हो गया, तुमने जिस लड़की का रेप किया, उसे हर दिन हर पल सिर्फ यही महसूस होता है.. तुमने सिर्फ उस लड़की का रेप नहीं किया, तुमने रेप किया है उस भरोसे का जो तुमने कभी बाप बनकर, भाई बनकर, बेटा बनकर किसी ना किसी को तो दिया होगा.. और अगर इसी तरह इस भरोसे का रेप करते रहना है तो तोड़ दो ना ये सारे रिश्ते.. और अगर तुमसे इतना भी नहीं होता ना तो जला दो वो सारे कागज जहाँ जहाँ तुमने अपने नाम के आगे मर्द लिखा है..


Baap Ka Maal Samjha Hai Kya?