Guzar Jayega by Amitabh Bachchan and various artists

the digital shayar

Guzar Jayega by Amitabh Bachchan and various artists

गुज़र जायेगा, गुज़र जायेगा…
मुश्कील बहुत है मगर वक्त ही तो है….
गुज़र जायेगा, गुज़र जायेगा…
जिंदा रहने का ये जो जज्बा है फिर उभर आयेगा…
गुज़र जायेगा, गुज़र जायेगा….

माना मौत चेहरा बदलकर आयी है…
माना, मौत चेहरा बदलकर आयी है…
माना रात काली है भयावह है गहराई है…
लोग दरवाज़ों पे रास्तों पे रुके बैठे हैं…
लोग दरवाज़ों पे रास्तों पे रुके बैठे हैं…
कई घबराये हैं सहमे हैं छिपे बैठे हैं…
मगर यक़ीन रख,
मगर यक़ीन रख ये बस लम्हा है…
दो पल में बिखर जायेगा….
जिंदा रहने का ये जो जज़्बा है फिर असर लायेगा….
मुश्कील बहुत है मगर वक्त ही तो है,
गुज़र जायेगा, गुज़र जायेगा…

बिन कहे कभी न कभी हकीकत लेती है इम्तिहान…
पर खरे उतरने कि नसीहत देती भी तो है हाँ…
बिन कहे कभी न कभी हकीकत लेती है इम्तिहान…
पर खरे उतरने कि नसीहत देती भी तो है हाँ…
उधड़ा जो पड़ा साहस ये सील जायेगा…
देखते ही देखते राख से तू खिल पायेगा…
गुज़र जायेगा, गुज़र जायेगा…
बन्देया ये सामाँ गुजर जायेगा…
गुज़र जायेगा, गुज़र जायेगा…
बेबसी का मकाँ गुजर जायेगा…
गुज़र जायेगा, गुज़र जायेगा…
बन्देया ये समां गुज़र जायेगा…

बाजार खाली सड़कें सुनी मोहल्ले विरान हैं…
बाजार खाली सड़कें सुनी मोहल्ले विरान हैं…
खौफ बरपा है हर तरफ लोग हैरान हैं…
ये वो क़हर है जो दुनिया को डराने आया…
ये वो क़हर है जो दुनिया को डराने आया…
मगर नासमज है जो इंसान को हराने आया…
इतिहास गवाह है ये मसला भी सुलझ जायेगा…
इतिहास गवाह है ये मसला भी सुलझ जायेगा…
जिंदा रहने का ये जो जज्बा है गुम हुआ है टूटा नहीं…
जिंदा रहने का ये जो जज्बा है गुम हुआ है टूटा नहीं…
यही जज्बा फिर असर लायेगा फिर उभर आयेगा…
मुश्कील बहुत है मगर वक्त ही तो है,
गुज़र जायेगा, गुज़र जायेगा, गुज़र जायेगा…

मिलों दूर तक ना कोई रास्ता अगर दिखे..
ऐसे में यक़ीनन कंधे हैं दोनों झुके…
तेरी हैसियात कि सरेआम बोली लगेगी..
अर्हद खर्च करके ही कमायेगा तू फतेह…
है बदलता जब समय तो रहें भी है बदलती…
उधड़ा जो पड़ा साहस ये सील जायेगा…
देखते ही देखते राख से तू खिल पायेगा…
गुज़र जायेगा, गुज़र जायेगा…
बंदेया ये समां गुज़र जायेगा…
गुज़र जायेगा, गुज़र जायेगा…
बेबसी का मकाँ गुज़र जायेगा…
गुज़र जायेगा, गुज़र जायेगा…
बन्देया ये समां गुजर जायेगा…
गुज़र जायेगा, गुज़र जायेगा…
बंदेया ये समां गुज़र जायेगा…
गुज़र जायेगा, गुज़र जायेगा…
बंदेया.. बंदेया…

पीठ करके ना बैठ तू मुश्किल वल…
साईं तेरे नाल ए मिल जावेगा हल…
हौसला नहीं हारिदा…
हौसला नी हारिदा बन्देया…
हौसला नी हारिदा बन्देया…
हो जायेगा हल…

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ना ना बेटा, तुमसे ना हो पायेगा ये कॉपी