Maa aur Tum – Meri Maa Ka Pyar badal Nahin Skta

the digital shayar
Tera Pyar Aaj Nahin To Kal Badal Jayega,
Magar Meri Maa ka Pyar Kabhi Badal Nahin Sakta.

तेरी नजरो में गिरकर तो संभल सकता हूँ मैं,
मगर अपनों की नजर में गिरकर संभल नहीं सकता
तेरा प्यार आज नहीं तो कल बदल जायेगा,
मगर मेरी माँ का प्यार कभी बदल नहीं सकता

तुझे मुझसे ज्यादा दौलत प्यारी है,
उसे दौलत से ज्यादा मेरी चाहत प्यारी है
तुझे अच्छे लगते होंगे मेरी आँखों में आंसू,
मगर मेरी माँ को तो बस मेरी मुस्कान प्यारी है
तुझे तो मिल जायेंगे और भी बहुत सारे,
मगर उसे मेरे सिवा कोई और मिल नहीं सकता
तेरा प्यार आज नहीं तो कल बदल जायेगा,
मगर मेरी माँ का प्यार कभी बदल नहीं सकता

तू मेरी हर गलती पर नाराजगी जताती है,
गलती तेरी होती है और मुझे सताती है
चाहे मैं लाख खफा हो जाऊँ अपनी माँ से,
फिर भी वो मुझे हँसहँस के मनाती है
तेरे लिए तो और भी बहुत है इस दुनिया में,
मगर मेरी माँ का गुजारा मेरे बिना चल नहीं सकता
तेरा प्यार आज नहीं तो कल बदल जायेगा,
मगर मेरी माँ का प्यार कभी बदल नहीं सकता...

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ना ना बेटा, तुमसे ना हो पायेगा ये कॉपी