Main Har Bewafa Shaks Ki Aukaat Likhti Hun by Goonj Chand

the digital shayar

Main Har Bewafa Shaks Ki Aukaat Likhti Hun by Goonj Chand

हाथ में दर्द लिए गमो के पन्ने बिछा उनपे अपने जज़्बात लिखती हूँ
जी हाँ मैं वही हूँ जो हर बेवफा शख्स की औकात लिखती हूँ

जब वफ़ा करने का दम नहीं तो कियूं किसी की ज़िन्दगी में जाते हो…
और तो और ज़िन्दगी भर साथ निभाने की झूठी कसमें भी खाते हो…
तुम जैसे झूठे लोगो को ही में सरे आम बे नक़ाब करती हूँ…
जी हाँ मैं वही हूँ जो हर बेवफा शख्स की औकात लिखती हूँ

अकेले में इतना प्यार जिसकी कोई हद नहीं…
और महफ़िल में हम जस्ट फ्रेंड है और कुछ नहीं…
लोगो की इन्ही सब बातो से में उनका डबल फेस भी भाप लेती हूँ…
जी हाँ मैं वही हूँ जो हर बेवफा शख्स की औकात लिखती हूँ

तुम्हे क्या लगता है बेवफाई करने की कोई सजा नहीं होती…
वक़्त आने पर इन जैसे लोगो के पास हसने की कोई वजह नहीं होती…
इसलिए हर गलत चीज़ के खिलाफ में अपनी आवाज़ रखती हूँ…
जी हाँ मैं वही हूँ जो हर बेवफा शख्स की औकात लिखती हूँ

हाथ में दर्द लिए गमो के पन्ने बिछा उनपे अपने जज़्बात लिखती हूँ
जी हाँ मैं वही हूँ जो हर बेवफा शख्स की औकात लिखती हूँ

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ना ना बेटा, तुमसे ना हो पायेगा ये कॉपी