Mera Bharat Mahaan by John Abraham

the digital shayar

Mera Bharat Mahaan by John Abraham

सड़के है अब लावरिस,
घर पे बैठा इंसान है…
जहाँ खेलते थे सब बच्चे,
खाली वह हर मैदान है…

मंदिर और मस्जिद है बंद,
खुली राशन की दुकान है…
हौंसला है फिर भी दिलों में,
क्योंकि मेरा भारत महान है…

अस्पतालों में जूझ रहे सब डॉक्टर,
इस वक़्त इंसानियत के भगवान् है…
खाकी में निकले वीर सिपाही को,
हर हिंदुस्तानी का सलाम है…

घर में रहकर हर नागरिक,
दे रहा अपना योगदान है…
हौंसला है फिर भी दिलों में,
क्योंकि मेरा भारत महान है…

पुरी दुनिया का दुशमन अब एक है,
पृथ्वी अब जंग-ऐ-मैदान है…
सरहदों पे आज भी सिपाही,
दे रहे प्राणो का बलिदान है…

माना की वक़्त है मुश्किल,
पर इरादे अब चट्टान है…
हौंसला है फिर भी दिलों में,
क्योंकि मेरा भारत महान है…

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ना ना बेटा, तुमसे ना हो पायेगा ये कॉपी