Mere Desh Me Bhi Aisa Ek Kanoon Bane by Amit Auumkaar

the digital shayar
Kaash Ki Mere Desh Me Bhi Aisa Ek kanoon Bane..
Ki Balatkar Karne Wale Ko Maut Se bhi Badtar Saza Mile..

काश कि मेरे देश में भी ऐसा एक कानून बने,
कि बलात्कार करने वाले को मौत से भी बदतर सजा मिले..
घसीट घसीटकर सड़कों पे, उसे पीट पीटकर मारे हम,
उसकी आखिरी साँस तक को खींच लेने का जनता को फरमान मिले..
काश कि मेरे देश में भी ऐसा एक कानून बने,
कि बलात्कार करने वाले को मौत से भी बदतर सजा मिले..

सिर्फ एक घर का दर्द नहीं है है, पुरे देश का है ये हिस्सा..
मन करता है चीर दे उनको, इतना भरा है हममें गुस्सा..
टुकड़े टुकड़े करके उनके, जिन्दा उन्हें जलाके हम,
सौ सौ मौतें मारे उनको तब जाके सुकून मिले
काश कि मेरे देश में भी ऐसा एक कानून बने,
कि बलात्कार करने वाले को मौत से भी बदतर सजा मिले..

अरे नहीं चाहिए मंदिर, मस्जिद, गुरूद्वारे, और चर्च हमें..
अरे नहीं चाहिए स्पेस क्राफ्ट और टेक्नोलॉजी पर खर्च हमें..
सबसे बड़ी जरूरत है ये, सबसे पहली है ये मांग,
यही है फैसले की घडी, जुर्म का है आपसी मलाग..
सोचके भी जिसके बारे में पापी की रूह काँप उठे,
अभी जरूरत है ऐसे कानून की, ऐसा एक कानून बने..
काश कि मेरे देश में भी ऐसा एक कानून बने,
कि बलात्कार करने वाले को मौत से भी बदतर सजा मिले..

अरे कोई एक ऐसा दिन नहीं जाता, जब बलात्कार की न्यूज़ नहीं..
अरे क्या करोगे ऐसे समाज का, जहाँ बेटी भी महफूज़ नहीं..
इतना भी नहीं सहना हमको कि पानी अपना खून बने,
हर अपराधी थर थर कांपे, ऐसा एक कानून बने..
काश कि मेरे देश में भी ऐसा एक कानून बने,
कि बलात्कार करने वाले को मौत से भी बदतर सजा मिले..

मैं भी बोलूं, तुम भी बोलो, जब तक वो ना बात सुने..
बार बार बोलो, तब तक बोलो, जब तक ये ना बात बने..
मत तो दौलत बेटी को, मत दो उसको बड़ी वसीयत,
ऐसा समाज दो उसको जहाँ किसी की गन्दी ना हो इतनी नीयत..
ऐसी सजा मिले अपराधी को कि धड़कने उसकी काँप उठे..
तभी रुकेंगे ये बलात्कार जब ऐसा एक कानून बने..
काश कि मेरे देश में भी ऐसा एक कानून बने,
कि बलात्कार करने वाले को मौत से भी बदतर सजा मिले..

~Amit Auumkaar

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ना ना बेटा, तुमसे ना हो पायेगा ये कॉपी