Tu Mera Kal Tha Wo Mera Aaj Hai by Goonj Chand

the digital shayar

Tu Mera Kal Tha Wo Mera Aaj Hai by Goonj Chand

मेरी हर ग़ज़ल का वो होंने वाला साज़ हैं
तू मेरा कल था वो मेरा आज हैं

तेरे लिये तो बग़ावत तक की तो भी तूने धोखा दिया..
मेरी इस पसंद पर घर वालों को भी नाज़ हैं..
तू मेरा कल था वो मेरा आज हैं…
मेरी हर ग़ज़ल का वो होंने वाला साज़ हैं
तू मेरा कल था वो मेरा आज हैं

खुली किताब की तरह की थी मोहब्बत तुझसे..
इसलिए आज मेरा इश्क एक राज़ हैं..
तू मेरा कल था वो मेरा आज हैं..
मेरी हर ग़ज़ल का वो होंने वाला साज़ हैं…
मेरी हर ग़ज़ल का वो होंने वाला साज़ हैं….
तू मेरा कल था वो मेरा आज हैं

मैंने ही चढ़ाया था सिर प़र अपने…
पर वो आज मेरे सिर का ताज़ हैं…
तू मेरा कल था वो मेरा आज हैं…
मेरी हर ग़ज़ल का वो होंने वाला साज़ हैं…
मेरी हर ग़ज़ल का वो होंने वाला साज़ हैं
तू मेरा कल था वो मेरा आज हैं

तूने तो चुप करा दिया हमेशा मुझे अपने आगे…
पर वो तो मेरी ख़ामोशी की आवाज़ हैं…
तू मेरा कल था वो मेरा आज हैं…
मेरी हर ग़ज़ल का वो होंने वाला साज़ हैं…
मेरी हर ग़ज़ल का वो होंने वाला साज़ हैं
तू मेरा कल था वो मेरा आज हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ना ना बेटा, तुमसे ना हो पायेगा ये कॉपी