Wo Ladki Tum hi to ho by Ratnesh Srivastav

the digital shayar
Wo Ladki Tum hi to ho by Ratnesh Srivastav

वो लड़का जिसे प्यार का मतलब तक नहीं पता था..
बेइंतहा प्यार कैसे किया जाता हैउसे ये सिखाने वाली,
वो लड़की तुम ही तो हो..

वो लड़का जो कभी अपनी गलती नहीं मानता था..
उसे उसकी गलती का एहसास कराकर सही रास्ता दिखाने वाली,
वो लड़की तुम ही तो हो..

वो लड़का जो अपनी बात मनवाने के लिए हमेशा जिद करता था..
उसे एक बार में सारी बात मनवाने वाली,
वो लड़की तुम ही तो हो..

वो लड़का जो अपना खुद का बर्थडे भूल जाया करता था..
उसे एक एक तारीख याद दिलाने वाली,
वो लड़की तुम ही तो हो..

वो लड़का जिसे Sorry तक सही से बोलना नहीं आता था..
लड़कियों को कैसे मनाया जाता हैउसे ये सिखाने वाली,
वो लड़की तुम ही तो हो..

वो लड़का जिसे सबकुछ बताने के बाद भी कुछ समझ नहीं आता था..
उसे सिर्फ एक इशारे में सबकुछ समझाने वाली,
वो लड़की तुम ही तो हो..

वो लड़का जो अलार्म बजने के बाद भी कभी नहीं उठता था..
उसे Exam Time में सिर्फ एक msg कर के जगाने वाली,
वो लड़की तुम ही तो हो..

वो लड़का जो भीड़ में लड़की के साथ चलने से भी डरता था..
बीच सड़क पर लड़की को Propose कैसे किया जाता है
उसे यह सिखाने वाली,
वो लड़की तुम ही तो हो..

वो लड़का जो सिर्फ Doremon और Shinchan देखा करता था..
उसे Romantic Movies की लत लगाने वाली,
वो लड़की तुम ही तो हो..

तुम ये किसी शर्ट पहनते हो?
तुम ये वाली Try करो, तुम पर बहुत अच्छी लगेगी..
यह कहकर मुझे Dressing Sense सिखाने वाली,
वो लड़की तुम ही तो हो..

तुम इतनी जल्दी जल्दी क्यों खाते हो?
थोड़ा आराम से खाया करो..
यह कहकर मुझे एक एक चीज सिखाने वाली,
और मुझे जानवर से इंसान बनाने वाली,
वो लड़की तुम ही तो हो..

चाहे वो कल मेरी जिंदगी में रहे या ना रहे,
मर मरते दम तक जिसके लिए इस दिल में हमेशा इज्जत रहेगी,
वो लड़की तुम ही तो हो..

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ना ना बेटा, तुमसे ना हो पायेगा ये कॉपी