Zaruri Nahi Har Rishtey Ko Naam Dena by Goonj Chand

the digital shayar

Zaruri Nahi Har Rishtey Ko Naam Dena by Goonj Chand

पूछे अगर कोई मेरे बारे में तुमसे,
तो अपने लबो पे एक प्यारी सी मुस्कान देना…
ज़रूरी नहीं हर रिश्ते को नाम देना…

बिना किसी शर्त के चल देना मेरे साथ यु ही,
पैर मेरी रहो को तुम न मुकाम देना…
ज़रूरी नहीं हर रिश्ते को नाम देना…

न कोई दर्द होगा ज़िन्दगी में न रोगे किसी क लिए, 
पहली ही मुलाकात में रिश्ते बनाने वालो को यह पैगाम देना…
ज़रूरी नहीं हर रिश्ते को नाम देना…

तुम्हारी मुस्कुराहट ही हमारे रिश्ते की गहराई बताएगी,
तो हमेशा मुस्कुराते हुए ही अपना सलाम देना…
ज़रूरी नहीं हर रिश्ते को नाम देना…

बाबू , शोना ,जानू , या दोस्त , बोलने की जरुरत नहीं,
तुम तो बस जोर से ही अनजान होके के ही आवाज़ देना…
ज़रूरी नहीं हर रिश्ते को नाम देना…

अनजान रहेंगे तो जानने के लिए रोज़ कुछ नया होगा,
बस तुम अपने गुमनाम रिश्ते को ही एक नाम देना…
ज़रूरी नहीं हर रिश्ते को नाम देना…

पूछे अगर कोई मेरे बारे में तुमसे,
तो अपने लबो पे एक प्यारी सी मुस्कान देना…
ज़रूरी नहीं हर रिश्ते को नाम देना…


Leave a Reply

Your email address will not be published.

ना ना बेटा, तुमसे ना हो पायेगा ये कॉपी